BG
Media Promotions                              
  • Columns
  • Columns
आचार्य/आचार्यो : डॉक्टर रमेश वायगावकर जी
 
   मॉर्डन एस्ट्रो रिसर्च सोसायटी (मार्स)
अनुभव: 40 वर्ष [पश्चिमी ज्योतिष(सायन पद्धति)-पाराशर पद्धति-लाल किताब-कृष्णमूर्ति पद्धति एवं वास्तु]
शिक्षा: एमएससी पीएचडी(ज्योतिष)
स्थाई पता: 58-अनुपम नगर एक्सटेंशन,विश्वविद्यालय रोड ग्वालियर, मध्य प्रदेश.  
संपर्क सूत्र:   +91 9821-608066, 8595-639695.(What'sapp no).
 
Email:   researchastroindia@gmail.com  
परिचय-:

डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी भारत के सबसे अनुभवी ज्योतिषाचार्यों में से एक हैं। डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी को खगोल विज्ञान, पारंपरिक पाराशर पद्धति, लाल किताब, कृष्णमूर्ति पद्धति, पश्चिमी ज्योतिष (सायन पद्धति) और वास्तु शास्त्र में महारत हासिल है।

डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी के अनुभव का अंदाजा हम इस बात से लगा सकते हैं कि डॉक्टर वायगाँवकर जी सन 1981 से ज्योतिष के क्षेत्र में अपना अहम योगदान दे रहे हैं।

डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी ने अपनी कुंडली गणना, सटीक भविष्यवाणी और प्रभावी उपचार की बदौलत पूरी दुनिया का ध्यान अपनी ओर खिंचने में कामयाब रहे हैं। आज पूरे विश्व भर में उनकी प्रशंसा की जाती है। यही वजह है कि आज केवल भारत ही नहीं बल्कि कनाडा, अमरीका, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, यूरोप आदि देशों से भी लोग अपनी समस्याओं को लेकर इनके पास आते हैं। ढ़ाई दशकों से भी ज्यादा का अनुभव रखने वाले डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी ने अब तक लाखों लोगों का मार्गदर्शन कर चुके हैं।

एक अच्छे ज्योतिषाचार्य के लिए उसमें कुछ विशेष गुणों का होना आव्श्यक होता है, जैसे- विश्लेषण करने की क्षमता के साथ शुद्ध विश्लेषणात्मक मस्तिष्क, अंतर्ज्ञान, गणितीय गणना आदि, लेकिन इन सब के अलावा एक ज्योतिषाचार्य के लिए गुरु का आशीर्वाद होना अति आवश्यक होता है।

डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी को हमेशा उनके गुरु पंडित दत्तात्रय विनायक राखे एवं डॉक्टर राधारमण दास जी का आशीर्वाद प्राप्त रहा । उनके आशीर्वाद की बदौलत ही डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी पिछली सदी के आखिरी दशक में ज्योतिष के ऊपर एक राष्ट्रीय स्तर की संगोष्ठी का आयोजन किया साथ ही मॉर्डन एस्ट्रो रिसर्च सोसायटी (मार्स) के नाम से एक समूह की भी स्थापना की एवं 10 वर्षों के बाद फिर से इस संगोष्ठी का आयोजन किया गया। अपने गुरु के कृपा से ही डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी ज्योतिष में डॉक्टरेट किया जिसका शीर्षक था “मेडिकल प्लान्ट्स’ एस्ट्रोलॉजी, देयर एन्वाइरन्मन्ट एंड क्योर ऑफ ह्यूमन डिज़ीज़”।

डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी हमेशा से देश-विदेशों में आयोजित ज्योतिष से संबंधित सेमिनारों में सक्रिय रुप से हिस्सा लेते हैं और अपना योगदान देते हैं। डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी को ज्योतिष एवं चिकित्सा के क्षेत्र में उनके अमूल्य योगदान के लिए कई उपाधियों में पुरस्कारों से भी सम्मानित किया जा चुका है। जिनमें दिल्ली में आयोजित ऑल इंडिया एस्ट्रोलॉजर्स कॉन्फ्रेन्स में इंग्लैंड के भारतीय उच्चायुक्त के कर कमलों से ‘ज्योतिष मार्तण्ड’, चेन्नई में आयोजित एशियन एस्ट्रोलॉजर्स मीट में कृष्णमूर्ति पद्धति के संस्थापक के पुत्र के हरिहरन के हाथों ‘नक्षत्र मूर्ति’ जैसे कई महत्वपूर्ण सम्मान शामिल है।

डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी की उपलब्धि यहीं खत्म नहीं होती। डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी देश के कई महत्वपूर्ण पदों पर भी कार्यरत रह चुके हैं। डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ एस्ट्रोलॉजी एंड अकल्ट साइंस, हैदराबाद द्वारा संचालित कॉलेज ऑफ एस्ट्रोलॉजिकल साइंस के पूर्व प्रधानाचार्य भी रह चुके हैं।

इसके अलावा सन 2002 से लेकर अब तक ग्वालियर के जीवाजी विश्वविद्यालय के ज्योतिर्विज्ञान विभाग में विजिटिंग फैकल्टी के रुप में अपनी सेवा प्रदान कर रहे हैं। इसमें सबसे खास बात ये है कि डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी ने ही बीए ज्योतिर्विज्ञान नाम से पहला एवं सबसे महत्वपूर्ण पाठ्यक्रम तैयार किया है। इन सबके अलावा डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी ज्योतिष, वास्तु, आयुर्वेदिक मेडिसिन आदि के क्षेत्रों के अनेकों रिसर्च प्रोजेक्ट्स में अपना योगदान दे चुके हैं।

इतना ही नहीं डॉक्टर रमेश वायगाँवकर जी एक अच्छे लेखक भी हैं और हमेशा से अपने ब्लॉग एवं लेखों के माध्यम से लोगों का मार्गदर्शन करते रहते हैं। उनके लेख अनेकों अखबारों एवं पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहते हैं। इसके अलावा सोशल नेटवर्किंग के माध्यम से भी वो लोगों से जुड़े रहते हैं।



डॉक्टर रमेश वायगावकर जी के आगामी कार्यक्रम:
आप सोमवार से शनिवार 10:00AM से 18:00PM के बीच अपनी समस्याओं के निदान हेतु एवं व्यक्तिगत रूप से मिलने के लिए संपर्क कर सकते हैं। संपर्क सूत्र-:+91 9821-608066, 8595-639695.(What'sapp no).

Designed & Developed By : Virtuoso IT Solutions Pvt. Ltd.